February 9, 2009

अभी साँस है बाकी - अभी जान है बाकी - आश्विन

साँसे सूख रही हैं ज़रा सी..पकड़ छूट रही है ज़रा सी..

ज़रा सी आँख धुंधला रही है..ज़रा सी नींद आ रही है..

होश खो रहा हूँ…..

बेहोश नही मदहोश हो रहा हूँ..

मुर्दा मत समझ लेना ..

कुछ पल को ज़रा सा खामोश हो रहा हूँ…

1 comment:

  1. umdaaaa....achhiiiii.......yash...

    ReplyDelete