April 28, 2012

अच्छा दिन - अश्वनी

अच्छा दिन था
24 घंटे में ही पूरा हो गया
कुछ ढीठ दिन 
बरसों ख़तम नहीं होते

4 comments:

  1. वाकई.................
    कब्र तक पीछा नहीं छोड़ते......
    (और ज़्यादातर वैसे ही होते हैं....जाने क्यूँ?)

    ReplyDelete
  2. aap to aaj tak se bhi tez hain..

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छे...!!!!

    ReplyDelete