July 29, 2016

ज़िद्दी परिंदा

बढ़ता पेट
घटता रेट
ज़ालिम सेठ

नींद बेवफ़ा
सपने सफा
उम्मीद रफा-दफा


हाथ में कंपन
पैर में झनझन
दिमाग में सनसन

पर

सोच है ज़िन्दा
ज़िद्दी परिंदा
बेपरवाह बाशिंदा
 
उड़ चला

आसमां
को
करने शर्मिंदा

2 comments: